Verse Of The Day

Verse Of The Day -    क्रूस का संदेश : पिता, मैं अपनी आत्मा तेरे हाथों में सौपता हूं ( लुका 23:46 ) ## यीशु जो हमारे उधारकर्ता की तरह से पृथ्वी पर आया, उसने अपने आत्मा और प्राण परमेश्वर के हाथों में क्यों क्यों सौपे ?     मनुष्य आत्मा, प्राण और देह से बना है ! जब वह मर जाता है तो उसकी आत्मा और प्राण देंह को छोड़ देता है ! यदि वह परमेश्वर का सत्य संतान है तो उसकी आत्मा और प्राण परमेश्वर के पास जाते हैं, अन्यथा, उसकी आत्मा और प्राण नरक में जाते हैं ( लुका 16:19-31 ) ! उसकी देह दफनाई जाती है और मिट्टी में मिल जाती है !     परमेश्वर का पुत्र यीशु देहधारी हुआ और इस संसार में आया !हमारे समान उस में आत्मा, प्राण और देह थे ! जब वह क्रूस पर लटकाया गया तो उसकी देह मर गई आत्मा और प्राण नहीं; उसने  अपनी आत्मा और प्राण परमेश्वर के हाथों में सौंप दिए !      जब आप मरते हैं तो परमेश्वर आपकी आत्मा और प्राण दोनों को ग्रहण करता है ! यदि परमेश्वर केवल आत्मा को ग्रहण करता, प्राण को नहीं तो आप स्वर्ग में सच्ची प्रसंता को कभी अनुभव नहीं कर सकते अथवा हृदय की गहराई से कभी आभारी नहीं हो सकते ! क्यों ? क्योंकि आप इन बातों को याद नहीं कर सकेंगे जो आपकी प्राण से निकलती है, जैसे आंसू, दु:ख, पीड़ा तथा अन्य बाते जो आपने पृथ्वी पर अपने सही ! इसलिए परमेश्वर आत्मा और प्राण दोनों को ग्रहण करता है !       तब यीशु ने अपनी आत्मा और प्राण परमेश्वर को क्यों सोपें ?यह इसलिए की परमेश्वर सृष्टि करता है, जो ब्रह्मांड की प्रत्येक वस्तु को संचालित करता है और आपके जीवन, मृत्यु, शाप तथा आशीषों का ध्यान रखता है कहना यह है कि प्रत्येक वस्तु परमेश्वर की है और उसकी प्रभुता में है ! केवल परमेश्वर ही है जो आपकी प्रार्थना का उत्तर देता है ! इसलिए यीशु को अपनी आत्मा तथा प्राण को सौपने के लिए पिता परमेश्वर से विनती करनी पड़ी ( मति 10:29-31 ) ! आमीन ---        "हे परमेश्वर के पवित्र जन परमेश्वर की ओर हमारे प्रभु यीशु की पहचान के द्वारा अनुग्रह और शांति तुम में बहुतायत से बढ़ती जाए !आमीन 

Contact us


Your Name:
E-mail Address *:
Message *: